6VH

अगर धन दूसरों की भलाई करने में मदद करे, तो इसका कुछ मूल्य है, अन्यथा, ये सिर्फ बुराई का एक ढेर है, और इससे जितना जल्दी छुटकारा मिल जाये उतना बेहतर है. —————————————— ब्रह्माण्ड कि सारी शक्तियां पहले से हमारी हैं। वो हमीं हैं जो अपनी आँखों पर हाँथ रख लेते हैं और फिर रोते […]

Continue Reading

5VH

जिसके साथ श्रेष्ठ विचार रहते हैं, वह कभी भी अकेला नहीं रह सकता | ————————————– पक्षपात सब बुराइयों की जड़ है | ————————————– किसी चीज से डरो मत . तुम अद्भुत काम करोगे . यह निर्भयता ही है जो क्षण भर में परम आनंद लाती है | ————————————– एक समय में एक काम करो , […]

Continue Reading

4VH

किसी मकसद के लिए खड़े हो तो एक पेड़ की तरह, गिरो तो बीज की तरह। ताकि दुबारा उगकर उसी मकसद के लिए जंग कर सको। ————————————— लगातार पवित्र विचार करते रहे, बुरे संस्कारो को दबाने के लिए एकमात्र समाधान यही है। ————————————— मन की एकाग्रता ही समग्र ज्ञान है। ————————————— यही दुनिया है! यदि […]

Continue Reading

3VH

उठो, जागो और तब तक नहीं रुको जब तक लक्ष्य ना प्राप्त हो जाये। —————————————— कभी मत सोचिये कि आत्मा के लिए कुछ असंभव है. ऐसा सोचना सबसे बड़ा विधर्म है.अगर कोई पाप है, तो वो यही है; ये कहना कि तुम निर्बल हो या अन्य निर्बल हैं. —————————————— जिस समय जिस काम के लिए […]

Continue Reading

2VH

जीवन का रहस्य भोग में नहीं अनुभव के द्वारा शिक्षा प्राप्ति में है। ——————————— पवित्रता, धैर्य तथा प्रयत्न के द्वारा सारी बाधाये दूर हो जाती है। इसमें कोई संदेह नहीं की महान कार्य सभी धीरे -धीरे होते है। ——————————— अगर आप ईश्वर को अपने भीतर और दूसरे वन्य जीवो में नहीं देख पाते, तो आप […]

Continue Reading

1VH

वह नास्तिक है, जो अपने आप में विश्वास नहीं रखता | ———————————- हमारे व्यक्तित्व की उत्पत्ति हमारे विचारों में है| विचार मुख्य हैं, शब्द गौण हैं और विचारों का असर दूर तक होता है. ———————————- हम भारत के लोग सभी धर्मों के प्रति न केवल सहिष्णुता में विश्वास करते है, वरन सभी धर्मों को सच्चा […]

Continue Reading